Objectives

परिचय
सुर संगम संस्थान विगत 40 वर्षों से युवा प्रतिभा खोज व प्रोत्साहन के क्षेत्र में राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित संस्थान है। संस्था के मार्गदर्षक मण्डल में संगीतकार नौषाद, रवीन्द्र जैन, डागर ब्रादर्स, जयदेव आदि संगीतज्ञ अपनी सेवाएं व सहयोग दे चुके हैं व वर्तमान में संगीतकार खैय्याम, हरिहरण, पिनाज मसानी डा. ऋत्विक सान्याल, पं. भवदीप जैसे दिग्गज गुरु निरन्तर प्रेरणा प्रषिक्षण व सहयोग दे रहे हैं।

__________________________________________________________________________________________

प्रवृत्तियां
1. वर्ष भर में 3/4 आवासीय प्रषिक्षण षिविर लगाये जाते हैं, जिनमें गुणी गुरुजन 8 से 10 दिवस तक गायकी का प्रषिक्षण देते है।
2. स्थानीय स्तर व राज्य/क्षेत्रीय स्तर पर प्रतिभा खोज स्पर्धाएं आयोजित कर सुरीली आवाज वाली प्रतिभाओं की खोज की जाती है।
3. राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिवर्ष अखिल भारतीय स्तर पर स्पर्धा आयोजित होती है।
4. चयनित योग्य कलाकारों को अलबम रिकार्डिंग, परफोरमेन्स व प्ले बेक सिगिंग के अवसर उपलब्ध कराये जाते हैं।

__________________________________________________________________________________________

उपलब्धियां
1. संस्था से जुडे़ बीसियों कलाकार प्ले बेक सिंगिंग कर रहे हैं।
2. संस्था से चयनित सैकड़ों कलाकार अनेक विष्वविद्यालयों व महाविद्यालयों में भारतीय संगीत का प्रषिक्षण दे रहे हैं।
3. गायकी के क्षेत्र में रोजगार के अवसर बढे़ हैं व हजारों कलाकार परफोरमेन्स द्वारा प्रतिष्ठापूर्वक जीविकोपार्जन कर रहे हैं व हजारों संगतकारों को रोजगार दे रहे हैं।
4. युवाओं में भारतीय संस्कारों, जीवनषैली व संगीत के प्रति रूचि, ज्ञान व आस्था का विकास हुआ है व शास्त्रीय गायन सीखने की प्रवृत्ति बढी है।
5. विजेताओं को विभिन्न चैनल्स पर सीधे प्रवेष दिया जा रहा है।

__________________________________________________________________________________________

वर्ष 2017-18 की योजना
1. वर्ष 2017 में अक्टूबर में सैकड़ों स्थानों से प्रतिभाषाली गायकों का चुनाव कर उन्हें क्षेत्रीय स्पर्धाओं में भेजा जायेगा व क्षेत्रीय स्पर्धाओं के विजेता दिसम्बर 2017 में जयपुर में होने वाली राष्ट्रीय स्पर्धा व प्रषिक्षण कार्यक्रमों में भाग लेंगे।
2. जनवरी 2018 में मुम्बई, मई 2018 में बीकानेर व अगस्त 2018 में जयपुर में प्रषिक्षण षिविर आयोजित किये जायेंगे।
3. जनवरी 2018 में मुम्बई में व अगस्त 2018 में जयपुर में विषाल कार्यक्रम आयोजित कर प्रतिभाओं को मंच दिया जायेगा व श्रोताओं में संगीत निर्देषक, निर्माताओं व निर्देंषकों को आमन्त्रित कर अवसर प्रदान कराये जायेंगे।

__________________________________________________________________________________________

उद्देश्य

युवा पीढ़ी में भारतीय संगीत के प्रति रूचि व जागरूकता का विकास |
सुरीली आवाज वाले युवाओं की खोज व स्पर्धा की भावना प्रोत्साहित कर क्षमता का विकास |
विभिन्न प्रदेशों के युवाओं में सांस्कृतिक आदान-प्रदान, आपसी समझ व राष्ट्रीय भावना के प्रशिक्षण द्वारा राष्ट्रीय भावना के प्रशिक्षण द्वारा राष्ट्रीय एकता व बंधुत्व भावना का प्रसार |

__________________________________________________________________________________________

अवसर

विजेताओं को उच्च स्तरीय प्रशिक्षण द्वारा गायन में दक्षता प्राप्त करने व रेडियो व चैनल, रिकॉर्डिंग व पार्श्व गायन के अवसर|